Warning: Creating default object from empty value in /home/wpchamp/public_html/kalyan/hn/wp-content/themes/kalyan-hn-theme/functions/admin-hooks.php on line 160

संवेदनशीलता

तुम कभी निरीक्षण करते हो तब बेध्यानपने में ज्यादा बोलबोल करते हैं, या खाते रहतेहै बाद में उसका पश्चाताप भी बेध्यानपने में करते होते हैं ? ऐसे जडता में जीवन जीते है और संवेदनशीलता आती नहीं । बाद में सब रोग अपने ऊपर चढ बैठते हैं ।

Tags: