Warning: Creating default object from empty value in /home/wpchamp/public_html/kalyan/hn/wp-content/themes/kalyan-hn-theme/functions/admin-hooks.php on line 160

अनुकरण

जीवन में ज्यादातर हम दूसरों का अनुकरण (नकल) करते होते हैं । हमारे पास इतनी सामान्य समझ भी नहीं है कि अनुकरण से जडता आती है । अनुकरण से अपनी मौलिकता और संवेदनशीलता मृतः प्राय बनती है ।

Tags: , ,