Warning: Creating default object from empty value in /home/wpchamp/public_html/kalyan/hn/wp-content/themes/kalyan-hn-theme/functions/admin-hooks.php on line 160

आचरण

हम चाहे जितने बडे विद्धवान हों परंतु जीवन में आचरण नहीं हो तो प्रश्न और फरियादें रहेंगी ही । वर्तमान में समग्र भाव से देखें और सुने तो योग्य आचरण स्वयं होता रहेगा । हकीकत में आचरण स्वज्ञान से अमल में लाया जाता है ।

Tags: , ,