Warning: Creating default object from empty value in /home/wpchamp/public_html/kalyan/hn/wp-content/themes/kalyan-hn-theme/functions/admin-hooks.php on line 160

प्रमाद लापरवाही

लापरवाही सूक्ष्म है, पकड में नहीं आती । हम अपने मानसिक प्रश्नों को हंमेशा धकेलते रहते हैं और उनमें से गुजरते नहीं । प्रश्नों, फरियादों को धकेलने से दिनों दिन वे बढते जाते हैं । हमारे प्रश्नों के मूल में प्रमाद (लापरवाही) है उसको पहचाने ।

Tags: ,