Tag Archives: आंतरिक क्रांति

आंतरिक क्रांति

आंतरिक क्रांति हुए बिना अखंड तरफ यात्रा की शुरुआत होती नहीं । हम ज्यादातर परंपरावशः बनकर गोलगोल चक्र में घूमते रहते हैं । हमारी उत्सुकता हो तो आंतरिक क्रांति क्षण में ही हो ।

पुनरावर्तन

जीवन में एक ही एक बात का पुनरावर्तन करने से हम संवेदनशीलता खो देते हैं । हंमेशा गोल गोल चक्र में ऐक जैसा जीवन बीतता है । यह पुनरावर्तन को समझकर पहचानेंगे तो जीवन में आंतरिक क्रांति का आरंभ होगा और जीवन का पल पल नूतन लगेगा ।