Warning: Creating default object from empty value in /home/wpchamp/public_html/kalyan/hn/wp-content/themes/kalyan-hn-theme/functions/admin-hooks.php on line 160
Tag Archives: स्वज्ञान

शोषण

स्वज्ञान के बिना जो कुछ भी करेंगे वह वास्तविक तौर पर हिंसा और शोषण को बढावा देगा । जैसे किसी का शोषण करना गलत है वैसे ही अपना शोषण करने देना भ अयोग्य है । आज समग्र जगत शोषण की तरफ झुक रहा है तभी अलिप्त और शोषण रहित कैसे जीए वह सीखें ।

आचरण

हम चाहे जितने बडे विद्धवान हों परंतु जीवन में आचरण नहीं हो तो प्रश्न और फरियादें रहेंगी ही । वर्तमान में समग्र भाव से देखें और सुने तो योग्य आचरण स्वयं होता रहेगा । हकीकत में आचरण स्वज्ञान से अमल में लाया जाता है ।

द्वंद्व

द्वंद्वों से पर गए बिना कभी स्वज्ञान होगा नहीं । अवगुणों को विरोधाभासी वृत्तियों को पोषण नहीं मिलने से धीरे धीरे वातावरण योग्य और स्थिर बनता जाता है । ऐसा अनुभव स्वरुप में रहने से होता है । भीतर में शांति और खामोशी भी जन्म लेती है ।

स्वज्ञान का अभाव वही अज्ञान

इनसान अगर जीवन की वास्तविकता और प्रश्नों से भागे नहीं तो और उसके साथ रहे तो स्वज्ञान हो । स्वज्ञान का अभाव यही बडा अज्ञान है । माहिती ज्ञान पंडिताई या बुद्धिचातुर्य चाहे जितना हो तब भ जीवन में काम आता नहीं, उलटा जीवन से दूर खिंच ले जाता है । स्वज्ञान जीवन में से […]